Like us on Facebook
 

Advertisement

Lyrics

Submitted By :- Er. Amaresh

[rklyrics.com]

kumaar saanu:
(churaake dil mera, goriya chali)-2
udaake nindiyaan, kahaan tu chali
(paagal hua, deewaana hua)-2

kaisi yeh dil ki lagi
alkaa:
ho, churaake dil tera, chali main chali

mujhe kya pata, kahaan main chali
(manzil meri bas tu hi tu)-2
teri gali main chali

kumaar saanu:
oh, churaake dil mera, goriya chali
alkaa:

churaake dil tera, chali main chali
abhi to lage hain chaahaton ke mele
abhi dil mera dhadakanon se khele

kisi mod par main tum ko pukaaroon
bahaana koi bana to na loge
kumaar saanu:

agar main bata doon, mere dil men kya hai
to mujh se nigaahen chura to na loge
agar badh gayi hai betaabiyaan
kahin mujh se daaman chhuda to na loge

alkaa:
kehata hai dil, dhadakate hue
tum sanam hamaare, ham tumhaare hue

(manzil meri bas tu hi tu)-2
teri gali main chali
kumaar saanu:

oh, churaake dil mera, goriya chali
alkaa:
churaake dil tera, chali main chali

nahin bewafa tum, yeh mujh ko khabar hai
badalati Rutton se magar mujh ko Dar hai
nayi hasaraton ki nayi sej par tum

naya phool koi saja to na loge
kumaar saanu:
vafaayen to mujh se bahut tumane ki hai

magar is jahaan men haseen aur bhi hai
qasam meri khaakar itana bata do
kisi aur se dil laga to na loge
dheere-dheere chori-chori, chupake-chupake aake mil

toot na jaaye pyaar bhara yeh dil
alkaa:
(manzil meri bas tu hi tu)-2

teri gali main chali
kumaar saanu:
churaake dil mera, goriya chali

*******************************************
कुमार सानु:

(चुराके दिल मेरा, गोरिया चली)-२
उड़ाके नींदियाँ, कहाँ तू चली
(पागल हुआ, दीवाना हुआ)-२
कैसी येह दिल कि लगी

अल्का:
हो, चुराके दिल तेरा, चली मैं चली
मुझे क्या पता, कहाँ मैं चली

(मन्ज़िल मेरी बस तू ही तू)-२
तेरी गली मैं चली
कुमार सानु:

ओह, चुराके दिल मेरा, गोरिया चली
अल्का:
चुराके दिल तेरा, चली मैं चली

अभी तो लगे हैं चाहतों के मेले
अभी दिल मेरा धड़कनों से खेले
किसी मोड़ पर मैं तुम को पुकारूं

बहाना कोई बना तो ना लोगे
कुमार सानु:
अगर मैं बता दूं, मेरे दिल में क्या है

तो मुझ से निगाहें चुरा तो ना लोगे
अगर बढ़ गयी है बेताबीयाँ
कहीं मुझ से दामन छुड़ा तो ना लोगे

अल्का:
केहता है दिल, धड़कते हुए
तुम सनम हमारे, हम तुम्हारे हुए
(मन्ज़िल मेरी बस तू ही तू)-२

तेरी गली मैं चली
कुमार सानु:
ओह, चुराके दिल मेरा, गोरिया चली

अल्का:
चुराके दिल तेरा, चली मैं चली

नहीं बेवफ़ा तुम, येह मुझ को खबर है
बदलती ऋतों से मगर मुझ को डर है
नयी हसरतों की नयी सेज पर तुम
नया फूल कोई सजा तो ना लोगे

कुमार सानु:
वफ़ायें तो मुझ से बहुत तुमने की है
मगर इस जहाँ में हसीँ और भी है

क़सम मेरी खाकर इतना बता दो
किसी और से दिल लगा तो ना लोगे
धीरे-धीरे चोरी-चोरी, चुपके-चुपके आके मिल
टूट ना जाये प्यार भरा येह दिल

अल्का:
(मन्ज़िल मेरी बस तू ही तू)-२
तेरी गली मैं चली

कुमार सानु:
चुराके दिल मेरा, गोरिया चली



[rklyrics.com]

Advertisement

Album Comments